Agriculture and Horticulture in Himachal Pradesh

0
95
Agriculture and Horticulture in Himachal Pradesh
Agriculture and Horticulture in Himachal Pradesh

Agriculture and Horticulture in Himachal Pradesh – कृषि हर राज्य का एक प्रमुख व्‍यवसाय होता है. यह राज्‍य की अर्थव्‍यवस्‍था में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाती है। हिमाचल प्रदेश में भी कृषि व्‍यवसाय प्रमुख व्‍यवसाय हैं. यह 69 प्रतिशत कामकाजी आबादी को सीधा रोजगार मुहैया कराती है। हिमाचल प्रदेश के घरेलू उत्पाद का लगभग 15% कृषि तथा इससे सम्बन्धित क्षेत्रों से प्राप्त होता है. हिमाचाल प्रदेश के भौगोलिक क्षेत्र में 55.673 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में से किसानो द्वारा 9.68 लाख क्षेत्र जोटा जाता है. औसतन की बात की जाये तो प्रदेश में जोत 1.04 हेक्टेयर है.

कृषि जलवायु

Agriculture and Horticulture Climate in Himachal Pradesh: हिमाचल प्रदेश का  लगभग 81.5 % क्षेत्र वर्षा पर आधारित है. गेहूँ, चावल, तथा मक्की ये सब राज्य की मुख्य फसल हैं, उनमे से कुछ खरीफ फसलें जैसे मूंगफली, सूरजमुखी तथा सोयाबीन हैं और कुछ रबी फसलें जैसे तोरियां तिल और सरसों हैं.

हिमाचल प्रदेश की कृषि जलवायु कुछ फसलों के उत्पादन के लिए बहुत उपयोगी है जैसे अदरक, आलू, आदि हैं. हिमाचल प्रदेश में कुल बिजाई क्षेत्रफल लगभग 83.10% है उनमे से में लगभग 12% भाग पर बिजाई की जाती है. गेहूँ प्रदेश में सर्वाधिक उगाई जाने वाली फसल हैं.  

1. गेहूँ 38.5%
2. मक्की 31.6%
3. धान 8.6%
4. जौ 2.7%
5. अन्य फसलें 1.7%

हिमाचल प्रदेश की प्रमुख फसलें

गेहूँ

विश्व में गेहूं उत्पादन में भारत का चीन के बाद दूर स्थान है, भारत में गेहूँ उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा उगाया जाता है. गेहूं एक रबी फसल है. हिमाचल प्रदेश के 38.5% क्षेत्र में इसकी खेती की जाती है. हिमाचल प्रदेश में सर्वाधिक कृषि भू-भाग जिला काँगड़ा जिला  का है (93859 हेक्टेयर) और सबसे कम लाहौल स्पीती का है (57 हेक्टेयर), गेहूँ उत्पादन में जिला काँगड़ा आता है (90430 metric ton) और सबसे कम लाहौल स्पीती है (80 metric ton)

मक्का

हिमाचल प्रदेश के लगभग 31.65% कृषि योग्य भूमि में मक्की की खेती की जाती है. मक्की एक खरीफ फसल है, कांगड़ा जिले में मक्की की सर्वाधिक खेती की जाती है. मक्का उत्पादन में हि.प्र. का पाँचवां स्थान है

चावल

विश्व में चावल दूसरे सर्वाधिक क्षेत्रफल पर उगाई जाने वाली फसल है. चावल एक खरीफ फसल है, हिमाचल प्रदेश में कृषि योग्य भूमि के 8.6% भाग पर चावल की खेती  की जाती है.

अदरक

हिमाचल प्रदेश का अदरक उत्पादन में देश में तीसरा स्थान है पहला असम, दूसरा आंध्रा प्रदेश का स्थान है. हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में अदरक का सर्वाधिक उत्पादन होता है.

हिमाचल प्रदेश में उगने वाली सब्जियां

हिमाचल प्रदेश की कृषि योग्य भूमि के 3.8% भाग में सब्जियों का उत्पादन किया जाता है. सर्वाधिक सब्जियों का उत्पादन सोलन में तथा ऊना सबसे कम सब्जियों का उत्पादन होता है.

आलू

आलू उत्पादन में हिमाचल प्रदेश का देश में 17 वां स्थान है . हिमाचल को “Home of  Seed Potato” के नाम से भी जाना जाता है. हिमाचल के शिमला में सर्वाधिक आलू का उत्पादान किया जाता है. शिमला के कुफरी में केन्द्रीय आलू अनुसंधान संस्थान स्थित है. 1956 ई. में इसे पटना से शिमला कुफरी में स्थानांतरित किया गया था. आलू की मुख्य किस्में कुफरी जीवन, अशोका, जवाहर, बादशाह, ज्योति, सिंदरी, गिरिराज, कुफरी चंद्रमुखी, आदि हैं.

टमाटर

हिमाचल में टमाटर का सर्वाधिक उत्पादन सोलन जिले में किया जाता है.

मशरूम

हिमाचल के सोलन जिले में मशरूम का सबसे ज्यादा उत्पादन किया जाता है. सोलन को मशरूम का शहर के नाम से भी जाता है. National Mashroom Research Institute राष्ट्रीय मशरूम अनुसंधान संस्थान सोलन में स्थित है

बागवानी : हिमाचल प्रदेश

सेब

हिमाचल प्रदेश सेब उत्पादन में जम्मू-कश्मीर के बाद देश में दूसरा स्थान है.जिला शिमला में सर्वाधिक सेब का उत्पादन किया जाता है, हिमाचल प्रदेश में सबसे पहले अलेक्जेंडर कोल्ट ने शिमला के मशोबरा में 1887 ई. में सेब के बाग लगवाए थे.

Read in English

Agriculture and Horticulture in Himachal Pradesh

Agriculture is a major occupation of every state. It plays an important role in the economy of the state. Agriculture business is also a major occupation in Himachal Pradesh. It provides direct employment to 69 percent of the working population. About 15% of the domestic product of Himachal Pradesh is derived from agriculture and its related areas. Out of 55.673 lakh hectare in the geographical area of ​​Himachal Pradesh, 9.68 lakh area is added by the farmers. On an averageland holding in the state is 1.04 hectares.

Agricultural Climate in Himachal Pradesh

About 81.5% area of Himachal Pradesh is rainfed. Wheat, rice and maize are the main crops of the Himachal Pradesh, some of them are kharif crops such as peanuts, sunflower and soybeans and some rabi crops such as zucchini, sesame and mustard.

The agricultural climate of Himachal Pradesh is very useful for agriculture of some crops like ginger, potato, etc. The total sowing area in Himachal Pradesh is about 83.10%. About 12% of them is sown. Wheat is the most grown crop in Himachal Pradesh.

1. Wheat 38.5%
2. Corn 31.6%
3. Grain 8.6%
4. Barley 2.7%
5. Other 1.7%

Major Crops of Himachal Pradesh

Wheat

India is the second largest producer of wheat in the world, after China, in India, wheat is the most grown in Uttar Pradesh. Wheat is a rabi crop. It is cultivated in 38.5% area of Himachal Pradesh. The district of Kangra district has the most agricultural land in Himachal Pradesh (93859 hectares) and the least is of Lahaul Spiti (57 hectares), district Kangra comes in wheat production (90430 metric ton) and the lowest is Lahaul Spiti (80 metric ton).

Maize

Maize is cultivated in about 31.65% of the arable land of Himachal Pradesh. Maize is a kharif crop, maize is the most cultivated in Kangra district. Himachal Pradesh Position in maize production Is fifth.

Rice

Rice is the second most grown area crop in the world. Rice is a kharif crop, rice is cultivated on 8.6% of the arable land in Himachal Pradesh.

Ginger

Himachal Pradesh ranks third in ginger production in the country, first is Assam, second is Andhra Pradesh, Sirmaur district of Himachal Pradesh has the highest production of ginger.

Vegetables in Himachal Pradesh

Vegetables are produced in 3.8% of the arable land of Himachal Pradesh. Most vegetables are produced in Solan and Una is the least produced.

 

Potato

Himachal Pradesh ranks 17th in the country in potato production. Himachal is also known as “Home of Seed Potato“. Shimla in Himachal is the largest producer of potatoes. Central Potato Research Institute is located in Kufri, Shimla. In 1956 AD it was shifted from Patna to Shimla Kufri. The main varieties of potato are Kufri Jeevan, Ashoka, Jawahar, Badshah, Jyoti, Sindri, Giriraj, Kufri Chandramukhi etc.

Tomato

Tomato is the most produced in Solan district.

Mushroom 

Mushroom is the most produced in Solan Disttrict of Himachal Pradesh. Solan is also known as the city of mushrooms. National Mashroom Research Institute is located in Solan Himachal Pradesh

Horticulture in Himachal Pradesh

Himachal Pradesh ranks second in apple production in the country after Jammu and Kashmir. Shimla district is the largest producer of apple. In Himachal Pradesh apple was first planted by Alexander Colt in Mashobra, Shimla in 1887 AD.

 

आपके सुझाव Samanya Gyan को hp gk की बेहतर website बनाने के लिए बहुत उपयोगी हैं. अगर आपके पास Agriculture and Horticulture in Himachal Pradesh in Hindi के बारे में कोई जानकारी है तो कृपया कमेंट सेक्शन में शेयर करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here